समर्थक

बुधवार, 8 जून 2011

सिक्के

खनकने दो ख्यालों को
ज़हन में.....
दिल इन्हीं
सिक्को से तो
खरीद देता है
ख्वाब आँखों को....

----आंच----------